उपरोक्त्त विषयान्तर्गत निवेदन है कि भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्रजी मोदी का एक सपना सन 2022 तक सबका घर हो अपना, सभी देशवासियों को समर्पित किया व इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पूर्ण क्षमता से कार्य करने हेतु मार्गदर्शन दिया।
माननीय श्री नरेन्द्रजी मोदी ने सभी सरकारों को यह निर्देश दिया है कि सभी जन-कल्याणकारी योजनाओं को बनाकर इस लक्ष्य को प्राप्त किया जाये व आम जनता विशेषकर कमजोर तबके के वंचित लोगो को विकास की मुख्य धारा में लाया जाये और खुशहाल जीवन जीने का हक़ प्रदान किया जावे।
हमारी सरकार की यह स्पष्ट सोच है कि भारत का कोई भी नागरिक मूलभूत सुविधाओं जैसे रोटी, कपडा, शिक्षा, मकान एवं रोजगार से वंचित नहीं रहे तथा आमजन और समाज के कमजोर तबके के लोगों को उत्थान को ध्यान में रखते हुए कई प्रकार की जन कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया गया।
हमारी ही सरकार द्वारा देश की सबसे प्रमुख कर सुधार प्रणाली वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) को लागू किया जिससे पूरे देश में एक देश एक कर योजना लागू होने से व्यापार करना पहले से और ज्यादा आसान हो गया।
इस कर प्रणाली से आम जनता को सस्ती मूलभूत सुविधाऐं उपलब्ध हुई तथा व्यापार और उद्योग का विकास हुआ, इस पारदर्शी कर प्रणाली से व्यापार करने में सुगमता हुई तथा वस्तुओं पर कर की दरें कम हुई तथा बढ़ती हुई महंगाई को नियंत्रित किया जा सका एवं देश का विकास की और अग्रसर हुआ।
हमारी देश की सरकार ने कर दरों का निर्धारण करते हुए खाद्य पदार्थो को कर मुक्त रखा गया तथा कपड़ों पर कर दरें निम्नतन रखी गयी और शिक्षा को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया तथा शिक्षा के विस्तार के लिए बहुत सी कल्याणकारी योजनाओं को लागू किया गया।
मान्यवर जी, हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रजी मोदी का सपना है कि सबका घर हो अपना तथा इसके तहत आमजन विशेष कर कमजोर वर्ग के लोगों को सस्ता मकान मिले, मकान निर्माण की लागत कम से कम हो हर एक का अपना मकान हो परन्तु जीएसटी में मकान निर्माण में उपयोग में आने वाली सामग्री जैसे सीमेन्ट,मार्बल और ग्रेनाईट,कलर पेन्ट्स, फर्नीचर, प्लाईवुड सैनिट्री, बिजली की फिटिंग्स आदि पर कर की दरों का अधिकतम निर्धारण किया गया है तथा भवन निर्माण में काम में आने वाली सामग्री को बनाने के लिए कच्चे माल के प्रयोग पर कर दर 5 प्रतिशत से 18 प्रतिशत पर रखी गयी।
वही दूसरी और भवन निर्माण के कार्यो में कई श्रमिकों को रोजगार मिलता है तथा भवन निर्माण कार्यो में उपयोग आने वाली सामग्री का उत्पादन भी अधिकतर लघु उद्यमियों द्वारा किया जाता है जिससे विभिन्न प्रकार के उद्योग सुचारु रूप से कार्य करते है इस प्रकार कुल मिलाकर इस भवन निर्माण कार्यो से रोजगार में अत्यधिक वृद्धि होती है।
अत: आपसे निवेदन है कि भारत के प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्रजी मोदी की सोच व उन्होंने जो एक सपना देखा कि आगामी सन 2022 तक सबका घर हो अपना को साकार करने के लिए भवन निर्माण में उपयोग आने वाली सामग्री जैसे सीमेन्ट, मार्बल, ग्रेनाईट, कलर पेन्ट्स, फर्नीचर, प्लाईवुड सैनिट्री, बिजली की फ़िटिंग्स इत्यादि पर कर की दरों को न्यूनतम रखा जाये जिससे सस्ते आवास का निर्माण हो सके और आगामी सन 2022 तक सबका घर हो अपना इस सपने के मूर्त रूप से साकार किया जा सके।
सादर!
भवदीय
राजेन्द्र राठी
प्रदेश उपाध्यक्ष
लघु उद्योग भारती
(मो.) 94141-35360

Reader Interactions

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share This